Culture POPcorn
Image default

TBS Planet Comics : From Comics startup to Angel funding

जुलाई 2016 में एक छोटे से स्टार्टअप के रूप में शुरू हुई थॉट बबल स्टूडियो TBS Planet Comics तेज़ी से अपना विस्तार कर रही है। इतने कम समय में दर्जन भर से अधिक कॉमिक्स और एक नॉवेल प्रकाशित करके TBS Planet Comics टीम ने साबित कर दिया है कि वो उन लोगो में से नहीं हैं जो कॉमिक्स से प्रभावित होकर बिना तैयारी के प्रकाशन क्षेत्र में उतरते हैं पर या तो शुरुआत में ही हार मान लेते हैं या कई वर्षों में गिनती की कॉमिक्स ही निकाल पाते हैं। इसी हफ्ते TBS Planet Comics को बड़े निवेशकों से एंजल फंडिंग मिली है। 14 महीनों के सफर में ऐसी अभूतपूर्व सफलता में कुछ महत्वपूर्ण बातें सामने आई हैं –

1. विविधता – कम समय में किसी किरदार को स्थापित करना मुश्किल चुनौती है। मनोरंजन के इतने साधन उपलब्ध होने के कारण आज के समय में चुनौती और बढ़ जाती है। ऐसे में हॉरर जॉनर की कॉमिक सीरीज ’13 डेज’ के साथ अलग-अलग पृष्ठभूमि के 4 सुपरहीरोज़ वेद, वरुण, कर्मा और युग की सीरीज एकसाथ चलाने और हर सीरीज की 2 कॉमिक्स के बीच में कम से कम समय रखने की तारीफ़ होनी चाहिए। भिन्न पाठकवर्ग अपनी पसंद के अनुसार कोई सीरीज चुन सकते हैं। बात का फायदा ये भी है कि TBS Planet Comics से सम्बंधित लगातार अपडेटस आती रहती हैं।

2. पहल – पाठकों के सर्वे करवाना, कॉमिक्स से जुड़े ऑफर, कलाकारों-टीम से जुड़े आयोजन भी समय-समय पर होने से कंपनी लोगो से जुडी रहती है। ऑनलाइन व स्थानीय स्तर पर ऐसी पहल करते रहने से इकाई की गुडविल बढ़ने के साथ समान स्तर के प्रतिद्वंद्वी प्रकाशनों पर बढ़त मिलती है। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान के स्नातक Rajeev Tamhankar जो यहाँ संस्थापक, लेखक और संपादक की भूमिकाओं में हैं, कुछ नया करने की कोशिश में प्रयासरत रहते हैं जैसे मुंबई, दिल्ली जैसे बड़े शहरों की जगह जबलपुर से प्रकाशन शुरू करना।


FOOTSTEPS : TBS PLANET’S HORROR SAGA, NOT FOR FAINT HEARTED


3. प्रतिभा को अवसर – हर सीरीज में उभरते कलाकारों, लेखकों के नाम जैसे अभिलाष पांडा, आनंद सिंह, अविजित मिश्रा, आलोक रंजन आदि देखने को मिल रहे हैं। संघर्ष करती प्रतिभाओं के लिए यह एक अच्छा संकेत है। कई ऐसे कलाकार हैं जो कॉमिक्स बनाना तो चाहते थे पर उन्हें किसी प्रकाशन से मौका नहीं मिलता था। अब सही दिशा में मेहनत और अच्छे कांसेप्ट के साथ उनका काम प्रकाशित होने की सम्भावना बढ़ जायेगी।

TBS Planet CulturePOPcorn

हालाँकि, काम की संख्या बढ़ने के कारण TBS Planet Comics की कहानियों और कला की गुणवत्ता औसत हो जाती है जिनमे सुधार होना चाहिए। आशा है समय के साथ जब टीबीएस प्लेनेट का विस्तार होगा और इसमें स्थिरता आएगी तब गुणवत्ता, दाम के अनुपात में पृष्ठों की संख्या जैसे मामले अपने आप ठीक हो जाएंगे।

TBS Planet Comics Website   |   Facebook Page

YOU MAY ALSO LIKE

Intellectual Property Thefts in India : Creatives Beware

Mohit Sharma Trendster

ComicCon 2016: The wait is over!

Abhilash Ashok Mende

Chandamama: The End of an Era

Abhilash Ashok Mende