Culture POPcorn
Image default

Matrix of Comics Series

कड़ी या श्रृंखला वाली किसी चीज़ में पड़ने से हर व्यक्ति थोड़ा हिचकता है। उसका पुराना अनुभव उसे बताता है कि Comics Series के चक्कर में पड़ना एक अच्छा शौक है। समय सही व्यतीत होता है और एक बंधन हो जाता है श्रृंखला से, पर फिर वह सोचता है नई Comics Series के फेर में पड़ने का मतलब समय, पैसे का निवेश। अब समय और पैसे उसके जीवन में पहले ही इतनी बातों में जा रहे होते हैं तो थोड़ी हिचकिचाहट स्वाभाविक है। भारतीय परिवेश में पहले अन्य माध्यमों में सुखद अनुभव से अधिक धोखे खा चुके पाठक के लिए यह निर्णय और चुनौतीपूर्ण हो जाता है। कई कॉमिक सीरीज के सीमित प्रशंसक होने की यह एक बड़ी वजह है। लोग कवर देख कर ही गिवअप कर देते हैं, जो बेचारे अंदर के कुछ पन्ने पलट कर देखते हैं उनमे काफी कम इस नए यूनीवर्स में कदम बढ़ाने की हिम्मत जुटा पाते हैं।

डायमंड कॉमिक्स – अब डायमंड कॉमिक्स के पास इस मामले में बढ़त है। उसकी यूएसपी ही सिंपल किरदार है जिन्हें उनके किसी भी कॉमिक को पढ़कर समझा जा सकता है। इनमे चाचा चौधरी, रमन, श्रीमती जी. चन्नी चाची, पिंकी, बिल्लू, ताऊजी प्रमुख हैं। ऐसा नहीं है कि इन किरदारों की सब कॉमिक्स में इनसे जुडी हर बात की जानकारी होती है पर फिर भी इन सीरीज की कहानियां, संवाद और दृश्य सब इतने सीधे-सरल होते हैं कि कोई बात ना पता होने पर आराम से अंदाज़ा लगाया जा सकता है। यह सरलता कुछ अन्य प्रकाशन और किरदारों (ख़ासकर एक्शन-एडवेंचर) में नहीं होती। कॉमेडी कॉमिक कुछ हद तक पाठक को समझने में आसान पड़ती है।

इंट्रो – कुछ कॉमिक्स सीरीज में अब हर अंक के शुरुआती पन्नो पर किरदार और सीरीज के बारे में मुख्य जानकारी दी जाती है ताकि अनजान पाठक थोड़ी बातें समझ सके। ऐसा ब्रिज होने से थोड़ा फर्क तो पड़ता है पर फिर भी अक्सर जटिल कथानक में नया पाठक खुद को भटका हुआ महसूस करता है। अगर संभव हो तो एक पेज की जगह हर कॉमिक के साथ छोटी परिचय बुकलेट दी जा सकती है, जिसमे हीरो की मुख्य शक्तियों के साथ-साथ उस सीरीज के बड़े पड़ावों का जिक्र हो। यह परिचय बुकलेट संबंधित कॉमिक्स में चल रही कहानी, मिनी सीरीज के घटनाक्रम पर अधिक ज़ोर देती हुयी होनी चाहिए। इसका मतलब है सिर्फ एक बुकलेट से काम नहीं चलेगा।

बाकी Comics Series को किसी मुख्यधारा टीवी सीरीज, बात, उत्पाद, फिल्म से जोड़कर पाठकों को बढ़ाया जा सकता है। मेनस्ट्रीम ठप्पा लगने पर लोग दिमाग पर ज़ोर डालकर किरदार के बारे में जानने की कोशिश कर लेते हैं। लंबे समय तक रिकरिंग अपडेट के कारण टीवी सीरियल एक अच्छा माध्यम है।

YOU MAY ALSO LIKE

Rakshak Review: Why Rakshak is the real Indian Superhero

Kishan Harchandani

Finding God : Preacher Story Arc Review

Kishan Harchandani

Marvel Comics Artist Steven Butler Team Up with Coffin Comics

Jonathan Upton